Hindi #2 – रोज़ की भाग दौड़

ratrace

दर-पे-दर ज़िंदगी गुज़रती चली गयी रोज़ की भाग दौड़ मे,

ए-काश ठहर कर सोच लिया होता की चाईए क्या था|

Advertisements